ऐप पर पढ़ें

श्रद्धा हत्याकांड का आरोपी आफताब दिल्ली पुलिस को अपने बयानों में उलझाने की कोशिशें कर रहा है। वह लगातार अपने बयान बदल रहा है। आफताब की इन्हीं चालबाजियों के कारण पुलिस की छानबीन पूरी नहीं हो पा रही है। अब जब आफताब की हिरासत की अवधि मंगलवार को समाप्त हो रही है तो दिल्ली पुलिस की कोशिश होगी की वह अदालत से आफताब की हिरासत की अवधि बढ़ाए जाने की अपील करे ताकि मामले की जांच को एक निष्कर्ष तक पहुंचाया जा सके। मालूम हो कि साकेत कोर्ट ने गुरुवार को दूसरी बार आफताब को पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेजा था।

हिरासत अवधि बढ़ाने की मांग करेगी पुलिस 

पुलिस सूत्रों ने बताया कि दस दिन की पूछताछ में पुलिस को कोई ऐसा ठोस सबूत नहीं मिला है जिससे श्रद्धा की हत्या के आरोप में आफताब को आसानी से उसके गुनाहों की सजा दिलाई जा सके। अभी तक आफताब का नार्को टेस्ट भी नहीं हो पाया है। इन बातों को देखते हुए दिल्ली पुलिस मंगलवार को भी अदालत से आफताब की हिरासत अवधि बढ़ाने की गुजारिश करेगी।

इसलिए टला नार्को परीक्षण 

पुलिस सूत्रों ने बताया कि नार्को टेस्ट में कुछ तकनीकी प्रक्रिया के चलते आफताब का यह परीक्षण सोमवार को नहीं हो सका। रोहिणी स्थित फारेंसिंक साइंस लैब के फारेंसिक साइकोलोजी विभाग के प्रमुख पी. पुरी ने बताया कि नार्को टेस्ट से पहले पालीग्राफ टेस्ट कराना जरूरी होता है। इसके जरिए आरोपी की शारीरिक एवं मानसिक मनोस्थिति की जानकारी हो जाती है। इसके लिए भी कोर्ट और आरोपी की सहमति जरूरी होती है। सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने साकेत कोर्ट में सिर्फ नार्को टेस्ट के लिए आवेदन किया था।

साकेत कोर्ट ने दी पालीग्राफ टेस्ट पर सहमति

सोमवार को साकेत कोर्ट के सामने आफताब ने पालीग्राफ टेस्ट कराने पर सहमति दे दी। अब मंगलवार को आफताब का पालीग्राफ टेस्ट कराया जाएगा। एफएसएल के अधिकारी ने बताया कि इसी पूरी प्रक्रिया को पूरी होने में दस दिन का समय लगता है। अस्पताल के अधिकारी ने बताया कि नार्को टेस्ट सिर्फ सोमवार को किया जाता है। अन्य दिनों में नार्को टेस्ट सिर्फ विशेष परिस्थितियों में किया जाता है जिसके लिए कोर्ट के आदेश की आवश्यकता होती है। ऐसे में जल्द नार्को टेस्ट होने की उम्मीद कम है।



Source link

Leave a Reply